सहानुभूति क्या है

सहानुभूति क्या है ?

सहानुभूति क्या है ?

सहानुभूति क्या है ?:- किसी अन्य व्यक्ति के दृष्टिकोण से चीजों को देखने और दूसरे की भावनाओं के साथ सहानुभूति रखने की यह क्षमता हमारे सामाजिक जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है । सहानुभूति हमें दूसरों को समझने की अनुमति देती है और, अक्सर, हमें किसी अन्य व्यक्ति के दुख को दूर करने और समझने के लिए मजबूर करती है । सहानुभूति एक और जीवन की संकट या आवश्यकता की धारणा, समझ और प्रतिक्रिया है । यह स्वीकार करना महत्वपूर्ण है कि सहानुभूति का उपयोग स्वीकृति सामाजिक स्थितियों में परोपकारी और आत्म-संतोषजनक कार्य करने को बाध्य करती है । ऐसा लगना स्वाभाविक है कि सहानुभूति की हमारी भावनाओं और हमारे नैतिक सिद्धांतों के बीच संबंध कायम करती है ।

क्रोध मानव जीवन की समस्या है

सहानुभूति में भावनात्मक रूप से समझने की क्षमता शामिल होती है कि दूसरा व्यक्ति क्या अनुभव कर रहा है । अनिवार्य रूप से, यह अपने आप को किसी और की स्थिति में रख रहा है और महसूस कर रहा है कि उन्हें क्या महसूस करना चाहिए । जब आप किसी अन्य व्यक्ति को पीड़ित देखते हैं, तो आप तुरंत अपने आप को दूसरे व्यक्ति के स्थान पर कल्पना करने में सक्षम हो सकते हैं और जो कुछ वे कर रहे हैं उसके लिए सहानुभूति महसूस करते हैं । संज्ञानात्मक सहानुभूति में किसी अन्य व्यक्ति की मानसिक स्थिति को समझने में सक्षम होना और स्थिति के जवाब में वे व्यक्ति क्या सोचते होंगे । यह उस बात से संबंधित है जिसे मनोवैज्ञानिक मन के सिद्धांत के रूप में संदर्भित करता हैं ।

सहानुभूति के प्रकार

सहानुभूति मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं जिनके नाम नीचे दिए गये हैं –

  1. निष्क्रिय सहानुभूति
  2. सक्रिय सहानुभूति

निष्क्रिय सहानुभूति 

निष्क्रिय सहानुभूति में हम दूसरों के भावों और संवेगों का अनुभव मात्र करते हैं।

जैसे – किसी को दुखी से रोते देखकर स्वयं भी रोने लगना या हंसते देखकर हंसने लगना।

यह मौलिक और कृत्रिम सहानुभूति है। यह दो प्रकार का होता है –

  1. दुःख दर्द, परेशानी एवं भय आदि संवेगों से सम्बन्धित सहानुभूति।
  2. प्रसन्नता, सुख और आनन्द से सम्बन्धित सहानुभूति।
https://www.youtube.com/watch?v=wv8GIXA23mM

सक्रिय सहानुभूति 

सक्रिय सहानुभूति में हम दूसरों के भावों और संवेगों का अनुभव करते हैं। और उसके लिए कुछ करने को सक्रिय हो उठते हैं।

जैसे – भिखारी की दीन – हीन दशा तथा आवाज सुनकर, द्रवित होकर उसकी सहायता करना।

2 thoughts on “सहानुभूति क्या है ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *