भोग और त्याग

भोग और त्याग

सहज मानव जीवन जीने के लिए भौतिक चीजों की नितांत आवश्यकता है। इन पदार्थों के बिना जीवन की कल्पना करना संभव नहीं है। उस भावना को समझना बहुत महत्वपूर्ण है जिसमें हम भौतिक सामग्री का उपयोग कर रहे हैं। वेदों में भी, मानव जीवन को ठीक से निष्पादित करने के लिए, भोग और त्याग का एक अद्भुत समन्वय स्थापित करते हुए, यह कहा गया है कि दुनिया में सभी वस्तुओं का उपयोग बलिदान के साथ किया जाना चाहिए। यही है, इस्तीफा दें और एक साथ आनंद लें। त्यागी एक योगी और एक सांसारिक प्रेमी है। वास्तव में, आनंद और योग दोनों ही हमारे भीतर हैं। दोनों को संतुलित करने की जरूरत है। हम त्याग भी करते हैं और खुद भी आनंद लेते हैं, लेकिन हम कितना त्याग करते हैं और कितना आनंद लेते हैं यह बड़ा सवाल है। सब कुछ का उपभोग करते हुए, हमारी भावना का बलिदान होना चाहिए। भौतिक सामग्री का आनंद लेना और हमारा जीवन ठीक से काम कर सकता है। यह आनंद का नैतिक सूत्र है। दुनिया में रहते हुए, सभी भौतिक सामग्री को इकट्ठा करें, लेकिन दूसरों के हित में, बलिदान की भावना को अवशोषित करें और इसका उपयोग करें।

लड़ाई विनाश को आमंत्रित करना है

हमारी परंपरा ने भी इसी सिद्धांत का पालन किया है कि जीवन के लिए आनंद उतना ही आवश्यक होना चाहिए। बस भोग में गिरना एक राक्षसी प्रवृत्ति है। जब तक भोग त्याग के दायरे में रहता है, तब तक यह मनुष्य के लिए लाभदायक है। जब त्याग की भावना समाप्त हो जाती है, उसी समय, मनुष्य की इच्छा एक महान रूप ले लेती है, जिसका कोई अंत नहीं है। भोग की यह भावना पूरी दुनिया के कल्याण और स्वयं मनुष्य के भोग के लिए एक बाधा बन जाती है। अत्यधिक भोग की प्रवृत्ति मनुष्य के जीवन को नीचा दिखाने की ओर ले जाती है। इसके विपरीत, त्याग की भावना मनुष्य को मानसिक आनंद और शांति देती है। एक व्यक्ति जो खुद को स्वतंत्र रूप से बलिदान करता है, वह हमेशा अपने जीवन से संतुष्ट होता है। भोग और त्याग का समन्वय पूरे विश्व को शांति के मार्ग की ओर ले जाता है।

31 thoughts on “भोग और त्याग

  1. When I originally left a comment I seem to have clicked on the -Notify me when new comments are added- checkbox and from now on every time a comment is added I recieve four emails with the same comment. There has to be an easy method you are able to remove me from that service? Thank you!

  2. You are so cool! I do not suppose I’ve truly read a single thing like that before. So great to find someone with original thoughts on this subject matter. Seriously.. thank you for starting this up. This web site is one thing that is required on the internet, someone with a bit of originality!

  3. Having read this I thought it was rather informative. I appreciate you finding the time and effort to put this short article together. I once again find myself personally spending a lot of time both reading and posting comments. But so what, it was still worth it!

  4. Howdy! This post couldnít be written much better! Reading through this post reminds me of my previous roommate! He constantly kept talking about this. I will send this information to him. Fairly certain he will have a good read. Thanks for sharing!

  5. Next time I read a blog, Hopefully it won’t fail me as much as this particular one. I mean, Yes, it was my choice to read through, but I really thought you would probably have something interesting to talk about. All I hear is a bunch of whining about something that you could fix if you were not too busy looking for attention.

  6. Oh my goodness! Amazing article dude! Thanks, However I am having issues with your RSS. I donít understand the reason why I am unable to subscribe to it. Is there anyone else having the same RSS problems? Anyone who knows the solution can you kindly respond? Thanx!!

  7. Greetings, I think your site might be having internet browser compatibility issues. Whenever I take a look at your site in Safari, it looks fine but when opening in I.E., it has some overlapping issues. I simply wanted to give you a quick heads up! Other than that, great site!

  8. Iím amazed, I have to admit. Seldom do I encounter a blog thatís both educative and amusing, and let me tell you, you’ve hit the nail on the head. The issue is something that too few men and women are speaking intelligently about. I am very happy I found this in my search for something relating to this.

  9. Can I just say what a comfort to find somebody who really understands what they’re discussing over the internet. You actually realize how to bring an issue to light and make it important. A lot more people need to look at this and understand this side of your story. I was surprised that you’re not more popular given that you surely possess the gift.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *