सफल और सार्थक जीवन के लिए प्रयास और कड़ी मेहनत आवश्यक है

सफल और सार्थक जीवन के लिए प्रयास और कड़ी मेहनत आवश्यक है

सफल और सार्थक जीवन के लिए प्रयास और कड़ी मेहनत आवश्यक है। प्रयास जीवन की अनिवार्य शर्त है। यदि पैरों में गति होती है, तो मन में शांति होती है। मानव जीवन गति और गति के साथ सफल और सार्थक बनता है। यही कारण है कि हमारे सभी संतों और मनीषियों को जीवन को गतिशील रखने के लिए प्रेरित किया गया है। दो प्रकार के आंदोलन हैं: एक बिना उद्देश्य के और दूसरा उद्देश्य। दिशाहीन आंदोलन में, एक आदमी नहीं जानता कि उसे कहाँ जाना है, क्योंकि कोल्हू का बैल अपनी आंखों के साथ एक सर्कल में घूमता है। वह चलता है, लेकिन उसका चलना उसके लिए कोई मायने नहीं रखता है। वास्तव में, वह चलता भी नहीं है। इस काम को कितना उत्पादक माना जाएगा?

एक व्यक्ति जानता है कि उद्देश्य पर चलना कहां है। उसकी एक नियति है। चलने का उद्देश्य है। ऐसा आदमी प्रत्येक क्षण का मूल्य जानता है और उस क्षण का पूरा उपयोग करता है। महात्मा गांधी, स्वामी विवेकानंद, आचार्य तुलसी इत्यादि ने कभी भी प्रमद को नहीं फंसने दिया। उन्होंने इतनी मेहनत की और इतनी मेहनत की कि लोग उन्हें देखकर हैरान रह गए। गतिशीलता का एक विशेष अर्थ है। खाली दिमाग शैतान का घर होता है। कई विकृतियां इसमें जमा होती हैं। जिस तरह आस-पास के पानी में कचरा और काई जमा हो जाती है, सड़ांध आती है, उसी तरह एक निष्क्रिय व्यक्ति का जीवन सभी प्रकार की बुराइयों से भरा होता है। नदी की धाराओं में बहने वाली गंदगी की तरह, मनुष्य का चेतन मन गंदगी को फेंकता है और खुद को साफ करता है।

जापान में, पौधे विकास को रोकते हैं और उन्हें छोटा करते हैं। इसलिए, मोटे तने वाले पेड़ एक छोटे बर्तन में विलीन हो जाते हैं। वे बौने हो जाते हैं। इंसानों के साथ भी ऐसा ही है। मनुष्य एक विकासशील जानवर है। यदि इसका विकास रुक जाता है, तो यह बौना रह जाता है। जीवन की सार्थकता इसकी सक्रियता में है। महान कार्य उन उदात्त क्षणों में हुए हैं। सृजन के बीज स्वस्थ और सक्रिय दिमाग में पैदा होते हैं और पनपते हैं।

जीवन की परिभाषा समय का मूल्य है

4 thoughts on “सफल और सार्थक जीवन के लिए प्रयास और कड़ी मेहनत आवश्यक है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *