मोबाइल फोन ने दुनिया बदल दी

मोबाइल फोन ने दुनिया बदल दी। अप्रैल 1973 में, जब मोटोरोला कंपनी के मालिक मार्टिन कूपर ने पहला मोबाइल फोन पेश किया, जिसका वजन एक किलोग्राम था, तो उन्होंने कल्पना नहीं की होगी कि विज्ञान का यह चमत्कार एक दिन पूरी दुनिया को सम्मोहित कर देगा! मोबाइल फोन के आगमन के साथ, न केवल पूरी दुनिया प्रौद्योगिकी के मामले में तेजी से बदल गई है, बल्कि ‘विकेंद्रीकृत प्रौद्योगिकी’ की अवधारणा को साकार करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। लोगों को तकनीक से जोड़ने और तकनीकी ज्ञान विकसित करने का बड़ा श्रेय मोबाइल के पास ही है। कभी केवल कॉल करने और संदेश भेजने के लिए उपयोग किया जाता था, मोबाइल अब अपने पारंपरिक दायरे से बहुत आगे निकल गया है। स्मार्टफोन के आने के बाद, ऐसा लगता है कि हर कोई पांच और छह इंच की स्क्रीन में डूब गया है। बहुउद्देशीय प्रकृति होने के नाते, मोबाइल ने आधुनिक जीवन को बेहद सरल और सुलभ बना दिया है। एक अनुमान के अनुसार, देश में लगभग 80 मिलियन मोबाइल फोन करोड़ हैं। हैरानी की बात है कि हर साल इस सूची में 50 से 60 लाख फोन जोड़े जाते हैं! हालांकि, कुछ दशक पहले ऐसा नहीं था। भारत में मोबाइल फोन का आगमन 1995 में हुआ, जब बंगाल के तत्कालीन मुख्यमंत्री ज्योति बसु ने संघ के दूरसंचार मंत्री सुखराम से मोबाइल फोन के माध्यम से बात की और फोन के आने की घोषणा की देश को मोबाइल। मोबाइल फोन खरीदना कई लोगों के लिए एक बड़ा सपना था। स्थिति यह थी कि तब भी इनकमिंग कॉल का भुगतान करना पड़ता था। हालांकि, वर्तमान में, देश प्रौद्योगिकी के मामले में भारी बदलाव का सामना कर रहा है। डिजिटल क्रांति ने केंद्र सरकार के प्रयासों को एक नई दिशा दी है। सच्चाई यह है कि वर्तमान तकनीकी युग में, एक व्यक्ति जो मोबाइल उपकरणों, खोज इंजन और सामाजिक नेटवर्क से बहुत दूर है, निश्चित रूप से प्रौद्योगिकी के मामले में गरीबी रेखा से नीचे रह रहा है! देश को डिजिटल क्रांति की राह पर रखना एक उचित कदम है। लेकिन हमें यह भी ध्यान रखना होगा कि देश में ऊर्जा की कमी, धीमी इंटरनेट और महंगी डेटा गति जैसी समस्याएं डिजिटल इंडिया योजना के लिए एक बाधा बन सकती हैं। इसलिए, डिजिटलकरण के साथ बुनियादी मुद्दों पर काम करना आवश्यक है। प्रौद्योगिकी के बढ़ते उपयोग के परिणामस्वरूप पर्यावरण संरक्षण होगा। सरकारी विभागों में पेपरलेस कार्य और इलेक्ट्रॉनिक शिक्षा, अभ्यास में डालते ही कागज के कारण होने वाली बहुसंख्यक पेड़ों की कटाई पर अंकुश लगा सकेगी। कहा जाता है कि एक तकनीक आपको दूसरी तकनीक से जोड़ती है। ऐसे में अगर हम तकनीक से जुड़े नहीं रहेंगे, तो नई तकनीकें भी हमारी पहुंच से बाहर हो जाएंगी। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि हम तकनीक से जुड़े रहें और इसका उपयोग सीमित और सार्थक तरीके से करते रहें।

सार्वजनिक और निजी प्रशासन के बीच समानताएं

लोगों को तकनीक से जोड़ने और तकनीकी समझ विकसित करने का महान श्रेय मोबाइल फोन के पास है।

कोलेस्ट्रॉल की दवा आपको गंभीर बीमारियों से बचाएगी

0 thoughts on “मोबाइल फोन ने दुनिया बदल दी

  1. Its such as you learn my mind! You seem to know so much about this,
    such as you wrote the guide in it or something. I feel that you just can do with some
    percent to power the message home a little bit, but other than that,
    this is great blog. An excellent read. I will definitely
    be back. 0mniartist asmr

  2. When I initially commented I clicked the “Notify me when new comments are added” checkbox
    and now each time a comment is added I get several e-mails with the
    same comment. Is there any way you can remove me from
    that service? Thank you! asmr 0mniartist

  3. Cool blog! Is your theme custom made or did you download
    it from somewhere? A theme like yours with a few simple adjustements would really make my blog stand out.

    Please let me know where you got your design. Many thanks 0mniartist asmr

  4. If you desire to increase your know-how only keep visiting this web site and be updated
    with the newest information posted here. asmr 0mniartist

  5. Wonderful blog! I found it while searching
    on Yahoo News. Do you have any tips on how to get listed in Yahoo News?
    I’ve been trying for a while but I never seem to get there!
    Cheers

  6. I do not even know the way I finished up right here, but I assumed this post was great.
    I do not understand who you might be but definitely you’re going
    to a famous blogger in case you are not already.
    Cheers!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *