वैज्ञानिकों ने भूख से बचाने का एक तरीका खोजा

वैज्ञानिकों ने भूख से बचाने का एक तरीका खोजा, वैज्ञानिकों ने मस्तिष्क में कई तंत्रिकाओं के ऐसे सर्किटों की पहचान की है, जो किसी व्यक्ति में बार-बार भोजन का कारण बनते हैं। अमेरिका के जॉर्जिया विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक UU। उन्होंने बताया कि कुछ लोग बिना सोचे समझे चीजों पर प्रतिक्रिया देते हैं। यह प्रकृति अत्यधिक या लगातार भोजन और मोटापे का कारण बनती है। इसकी वजह से नशे या जुए की लत लगने का खतरा भी होता है। अब वैज्ञानिकों ने मस्तिष्क के तंत्रिका सर्किट की पहचान करने में कामयाबी हासिल की है जो इसका कारण बनता है।

वैज्ञानिकों के अनुसार, हाइपोथैलेमस की कुछ कोशिकाएं, मस्तिष्क का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है जो शरीर के तापमान को नियंत्रित करने के लिए हार्मोन के स्राव में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, बिना सोचे-समझे प्रतिक्रिया उत्पन्न करता है। शोध के परिणामों से ऐसी दवा तैयार करने की उम्मीद की जाती है, जिससे इस प्रकृति को नियंत्रित करना संभव हो सके।

कोलेस्ट्रॉल की दवा आपको गंभीर बीमारियों से बचाएगी

अमेरिका में जॉर्जिया विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि इस अध्ययन के नतीजे वैज्ञानिकों को ऐसी दवाइयां विकसित करने के लिए प्रोत्साहित करेंगे, जो बिना सोचे-समझे प्रतिक्रिया की प्रकृति को नियंत्रित कर सकती हैं। मुझे उम्मीद थी कि इस शोध से भविष्य में डॉक्टरों को ओवरईटिंग की समस्या से छुटकारा पाने में मदद मिलेगी। यूजीए में परिवार और उपभोक्ता विज्ञान संकाय के निदेशक एमिली नोबल कहते हैं, “हम उस सर्किट को विशेष तरीकों से सक्रिय करके अपना व्यवहार बदल सकते हैं।” इस अध्ययन के लिए शोधकर्ताओं। उन्होंने एक चूहा मॉडल का इस्तेमाल किया। इस दौरान उन्होंने मस्तिष्क की कोशिकाओं पर ध्यान दिया जो कि

एआई मस्तिष्क की गंभीर चोटों का इलाज करेगा

वैज्ञानिकों ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) पर आधारित एक नई प्रणाली विकसित की है, जिससे घातक मस्तिष्क की चोटों का पता लगाया जा सकता है। यह डॉक्टरों को समय पर टीबीआई के साथ रोगियों के इलाज में मदद करेगा, यानी दर्दनाक मस्तिष्क की चोट। TBI को मृत्यु के प्रमुख वैश्विक कारणों में से एक माना जाता है। फिनलैंड के हेलसिंकी विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने कहा: ‘टीबीआई के मरीज अक्सर बेहोश रहते हैं, जिससे डॉक्टरों को इलाज के दौरान उनकी स्थिति का सही आकलन करना बेहद मुश्किल हो जाता है। शोधकर्ताओं ने इस समस्या का समाधान करने के लिए एक एआई-आधारित एल्गोरिथ्म विकसित किया है, जो मरीजों की मस्तिष्क की चोट का अनुमान लगाता है और उनकी स्थिति के बारे में डेटा एकत्र करता है। यह अध्ययन साइंटिफिक रिपोर्ट नामक जर्नल में प्रकाशित हुआ है।

संज्ञानात्मक विकास

0 thoughts on “वैज्ञानिकों ने भूख से बचाने का एक तरीका खोजा

  1. Does your site have a contact page? I’m having trouble locating
    it but, I’d like to shoot you an email. I’ve
    got some suggestions for your blog you might be interested
    in hearing. Either way, great website and I look forward to seeing it expand over time.
    0mniartist asmr

  2. I always used to read post in news papers but now as I am a user of internet
    thus from now I am using net for articles or reviews, thanks to web.
    0mniartist asmr

  3. Very nice post. I simply stumbled upon your weblog and wished to
    say that I’ve really loved surfing around your blog posts.
    After all I will be subscribing in your feed
    and I’m hoping you write once more soon!

  4. I am extremely impressed with your writing skills as well as with the layout for your weblog.
    Is this a paid theme or did you modify it your self?
    Anyway keep up the nice high quality writing, it’s rare to look a nice blog like this one these days..

  5. What’s up, the whole thing is going perfectly here and ofcourse
    every one is sharing information, that’s actually good, keep
    up writing.

  6. I want to to thank you for this great read!! I certainly loved
    every little bit of it. I have got you saved as a favorite to
    check out new stuff you post…

  7. Great weblog here! Also your web site so much up fast!
    What host are you the use of? Can I am getting your affiliate link
    for your host? I wish my website loaded up as quickly as yours lol

  8. Pingback: "gay" speed dating

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *