Ultimate happiness

परम सुख

परम सुख, संसार का प्रत्येक प्राणी सुख की कामना करता है। कोई भी व्यक्ति उदासी, अभाव की स्थिति को पसंद नहीं करता है, लेकिन क्या आपको केवल इच्छा होने से खुशी मिलती है? नहीं, अगर कोई पुरुष खुशी चाहता है, तो उसे खुशी पाने के लिए अपने स्नेह से चिपके रहना होगा। उदाहरण के लिए, जब आप प्यासे होते हैं, तो पानी की तलाश करें। कुएँ, पोखर, तालाब, झरने, नदी के पास पहुँचकर अपनी प्यास बुझाओ। यदि कोई व्यक्ति रेगिस्तान में प्यासा है और पानी की तलाश करता है, तो क्या उसकी इच्छा पूरी हो सकती है? कोई रास्ता नहीं। जब आप पानी की तलाश में वहां जाएंगे, तो आप जीवन में और मुसीबत में मर जाएंगे।

व्यायाम करके मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाया जा सकता है

इसी तरह, आज मनुष्य भी वास्तविक सुख के साथ भौतिक सुखों को भ्रमित कर रहे हैं। सभी रिद्धि-सिद्धि के शिक्षक होने के बावजूद, उन्होंने एक भिखारी के रूप में एक जगह से दूसरी जगह ठोकर खाने के लिए गलत रास्ता चुना है। वह धन, इच्छा, वासना में खुशी ढूंढ रहा है, जो नश्वर हैं। सच्चे आनंद का भंडार उसके भीतर भरा है। परमेश्‍वर ने उसमें अपना अंश छिपाया है, जो परम सुख, शांति का स्रोत है। जैसे मृग की नाभि में अनमोल सीप होते हैं, लेकिन वह नहीं जानता। यदि ज्ञात हो, तो उस सुगंध को प्राप्त करने के लिए जंगल में घूमने की आवश्यकता नहीं है।

शिव और शिवा

मनुष्य ने आज के भौतिक सुखों के पीछे आध्यात्मिक सुखों को भी नजरअंदाज कर दिया है। यह समझा जाता है कि मानव जीवन का उद्देश्य पशु जीवन जीना है। भौतिक सुखों की उपलब्धि के पीछे, वह भूल गया है कि वह भगवान का हिस्सा है। भगवान सभी पहलुओं में अमीर हैं, लेकिन उनका बेटा गरीब हो गया है। इसका कारण यह है कि आज के मनुष्य ईश्वर से अलग हो चुके हैं। अगर वह अपने भीतर देखने की कोशिश करता है, अगर वह परमात्मा से जुड़ता है, तो उसे शाश्वत सुख मिलने लगेगा।

One thought on “परम सुख

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *