सकारात्मकता की शक्ति

सकारात्मकता की शक्ति

सकारात्मकता की शक्ति

सकारात्मकता केवल एक विचार या दृष्टिकोण नहीं है, बल्कि एक महान गुण और शक्ति है। अंतरात्मा के संस्कार में आंतरिक शांति, सद्भावना, संतुलन, प्रेम, पवित्रता, सुख और आनंद निहित हैं। जीव चेतन और अवचेतन मन में बैठा है। इसे ऊंचा करने, परिष्कृत करने और अपनाने की जरूरत है। सकारात्मक इच्छाशक्ति हमारे शरीर के भीतर स्वस्थ हार्मोन बनाती है जो हमारी सुरक्षा कवच बन जाती है। हमारे शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं। शारीरिक, मानसिक, सामाजिक और आध्यात्मिक स्वास्थ्य विकसित करता है।

मानव व्यवहार का दोहरा व्यक्तित्व

अस्पताल में नर्सें मरीजों के गुस्से से नहीं, बल्कि डॉक्टर के गुस्से से परेशान हैं। यदि वे डॉक्टर को मानसिक रोगी मानते हैं और उनके प्रति क्षमा की सकारात्मक भावना रखते हैं, तो वे परेशान नहीं होंगे। उस सकारात्मक सोच या दृष्टिकोण को हमेशा साथ रखने के लिए, हमें नियमित रूप से आध्यात्मिक ज्ञान, योग और ध्यान का अभ्यास करना होगा, ताकि हमारे दिमाग शांत, ठंडे, स्थिर और शक्तिशाली बने रहें। तभी हम शुद्ध, स्वच्छ, स्वस्थ और सकारात्मक बन सकते हैं, अपने बारे में सोच सकते हैं और अपने दैनिक कार्यों में ईश्वर का चिंतन कर सकते हैं और गीता को uru योगस्थ कुरु कर्माणि ’कथन को सार्थक बना सकते हैं।

मानव अपनी प्रतिभा की परख कर सफल हो सकता है

आज हमें हर समय दुनिया, प्रकृति, और ईश्वर के प्रति अपनी ईमानदारी, धन्यवाद और आभार व्यक्त करना चाहिए। कहीं न कहीं, एक या दूसरे तरीके से, हम सभी के सहयोग और भागीदारी से शांति का जीवन जी रहे हैं, चल रहे हैं। इस कृतज्ञता के साथ, हमें हर समय सभी मूल और सचेत सृजन के लिए शुभकामनाएं, शुभकामनाएं, खुशी और कल्याण की कामना करनी चाहिए। यह हमारी सकारात्मक भावना, इच्छा और मानसिकता की शक्ति के साथ ही है कि हर किसी का जीवन समृद्ध और खुशहाल होगा।

One thought on “सकारात्मकता की शक्ति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *