Union Government (संघ सरकार)

Union Government (संघ सरकार) hindi

Union Government (संघ सरकार)

Union Government (संघ सरकार)


Union Government (संघ सरकार) :- केंद्र सरकार वह सरकार है जो एकात्मक राज्य पर पूर्ण वर्चस्व रखती है । एक संघ में इसके समकक्ष संघीय सरकार है, जिसके पास अपने संघीकृत राज्यों द्वारा अधिकृत या प्रत्यायोजित विभिन्न स्तरों पर अलग-अलग शक्तियां हो सकती हैं, हालांकि विशेषण ‘केंद्रीय’ कभी-कभी इसका वर्णन करने के लिए भी उपयोग किया जाता है ।

केंद्रीय सरकारों की संरचना अलग-अलग होती है । कई देशों ने क्षेत्रीय, राज्य, प्रांतीय, स्थानीय और अन्य उदाहरणों के रूप में केंद्र सरकार से लेकर सरकारों तक शक्तियों को सौंपकर स्वायत्त क्षेत्र बनाए हैं । एक बुनियादी राजनीतिक प्रणाली की एक व्यापक परिभाषा के आधार पर, सरकार के दो या अधिक स्तर होते हैं जो एक स्थापित क्षेत्र और सरकार के भीतर मौजूद होते हैं जो एक संविधान या अन्य कानून द्वारा निर्धारित अतिव्यापी या साझा शक्तियों वाले सामान्य संस्थानों के माध्यम से होते हैं ।

विधायिका The Legislature in hindi

Union Government संघ सरकार के इस स्तर की सामान्य ज़िम्मेदारियाँ जो निचले स्तरों को नहीं दी जाती हैं, राष्ट्रीय सुरक्षा को बनाए रखने और बाध्यकारी कूटनीति पर हस्ताक्षर करने के अधिकार सहित अंतर्राष्ट्रीय कूटनीति का प्रयोग करती हैं । मूल रूप से, केंद्र सरकार स्थानीय सरकारों के विपरीत, पूरे देश के लिए कानून बनाने की शक्ति रखती है ।

Union Government संघ सरकार का मतलब केंद्रीयकरण है जो पूरे देश पर अपना शासन करती है । भारत सरकार जिसे गवर्नमेंट ऑफ इंडिया के रूप में जाना जाता है । भारत के संविधान द्वारा 29 राज्य के संग के विधायक कार्यकारी और न्यायिक प्राधिकरण और इसके एक संवैधानिक रूप से लोकतांत्रिक गणराज्य के 7 केंद्र शासित प्रदेशों के रूप में बनाई गई केंद्र सरकार है । यह भारत की राजधानी नई दिल्ली में स्थित है ।

भारत सरकार में एक राज्य एक ऐसी संस्था होती है जिसके द्वारा स्वयं कोई कार्य नहीं किया जा सकता है । सरकार एक ऐसी संस्था है जो राज्य के कानूनों का निर्माण करती है उन कानूनों का पालन कराती हैं तथा कानूनों का उल्लंघन करने वाले को दंड देती है । सरकार राज्य का प्रमुख तत्व है सरकार के माध्यम से ही राज्य की इच्छाओं की अभिव्यक्ति है ।

कारगर कूटनीति का एक और उदाहरण Another example of Effective Diplomacy

सरकार स्वयं तीन अंगो से मिलकर बनती है ।

(i) विधायिका(The Legislature)

(ii) कार्यपालिका (The Executive)

(iii) न्यायपालिका (The Judiciary)

विधायिका(The Legislature)

सरकार के तीनों अंगों में सबसे महत्वपूर्ण अंग है । विधायिका ही है जो कानून का निर्माण करती है और कार्यपालिका इसे लागू करती है । इसके बाद इन्हीं कानूनों के आधार पर न्यायपालिका न्याय करती है । एक बातें गौर करने लायक है कि विधायिका ही कुछ सीमा तक कार्यपालिका और न्यायपालिका पर नियंत्रण करती है ।

भारत में विधायिका की शक्तियों का संसद द्वारा उपयोग किया जाता है, एक द्विसदनीय विधायिका जिसमें राज्यसभा और लोकसभा शामिल हैं । संसद के दो सदनों में से, राज्य सभा को उच्च सदन या राज्यों की परिषद माना जाता है और इसमें राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त और राज्य और क्षेत्रीय विधायिकाओं द्वारा चुने गए सदस्य होते हैं । लोकसभा को निचले सदन या लोगों का घर माना जाता है ।

संसद के पास पूर्ण नियंत्रण और संप्रभुता नहीं है, क्योंकि इसके कानून सर्वोच्च न्यायालय द्वारा न्यायिक समीक्षा के अधीन हैं । हालाँकि, यह कार्यपालिका पर कुछ नियंत्रण रखता है । प्रधानमंत्री सहित मंत्रिमंडल के सदस्यों को या तो संसद से चुना जाता है या सत्ता संभालने के छह महीने के भीतर संसद में निर्वाचित किया जाता है । एक पूरे के रूप में कैबिनेट लोकसभा के लिए जिम्मेदार है । लोकसभा एक अस्थायी सदन है और इसे तभी भंग किया जा सकता है जब सत्ता में रहने वाली पार्टी सदन के बहुमत का समर्थन खो देते । राज्य सभा एक स्थायी सदन है और इसे कभी भंग नहीं किया जा सकता। राज्य सभा के सदस्य छह साल के कार्यकाल के लिए चुने जाते हैं ।

संवाद की परंपरा का क्षरण Deletion of the tradition of dialogue

कार्यपालिका (The Executive)

कार्यपालिका सरकार का दूसरा महत्वपूर्ण माना जाता है । इसे इतना महत्वपूर्ण माना जाता है कि प्राय: इसी के लिए “सरकार”शब्द का प्रयोग किया जाता है इतना ही नहीं बल्कि विधायिका द्वारा जो कानून बनाए जाते हैं उसको नियमित रूप से लागू भी करती है ।

सरकार की कार्यपालिका वह है जिसके पास राज्य की नौकरशाही के दैनिक प्रशासन के लिए एकमात्र अधिकार और जिम्मेदारी है। सरकार की अलग-अलग शाखाओं में सत्ता का विभाजन शक्तियों के पृथक्करण के गणतांत्रिक विचार के लिए केंद्रीय है । कार्यपालिका एक राज्य के शासन के लिए अंग संचालन प्राधिकारी है । कार्यकारी कानून को लागू करता है ।

शक्तियों के पृथक्करण के सिद्धांत के आधार पर राजनीतिक प्रणालियों में, प्राधिकरण को कई शाखाओं (कार्यकारी, विधायी, न्यायिक) के बीच वितरित किया जाता है – जो लोगों के एक छोटे समूह के हाथों में शक्ति की एकाग्रता को रोकने का प्रयास करता है । ऐसी प्रणाली में, कार्यपालिका कानून (विधायिका की भूमिका) पारित नहीं करती है या उनकी व्याख्या नहीं करती है (न्यायपालिका की भूमिका) । इसके बजाय, कार्यपालिका विधायिका द्वारा लिखित और न्यायपालिका द्वारा व्याख्या किए गए कानून को लागू करती है। कार्यकारी कुछ प्रकार के कानून का स्रोत हो सकता है, जैसे डिक्री या कार्यकारी आदेश। कार्यकारी नौकरशाही आमतौर पर नियमों का स्रोत है ।

लचर व्यवस्था का नतीजा है भीड़ की हिंसा The result of the elite system is the fame of the Violence crowd

न्यायपालिका (The Judiciary)

न्यायपालिका सरकार का तीसरा परंतु महत्वपूर्ण अंग है । अधिकारी तंत्र के हिसाब से न्यायपालिका कार्यपालिका के अंग के रूप में कार्य करती हैं । यदि कार्यपालिका निरकुंश होकर कार्य करती है तो न्यायपालिका उस पर नियंत्रण रखती है । न्यायपालिका को इसी निरकुंश कार्य के चलते इसे स्वतंत्र रखा गया है ताकि यह अपना कार्य निष्पक्ष रूप से कर और किसी के दबाव में आकर कोई गलती न करे । किसी देश की न्यायपालिका की उतमता ही उस देश की सरकार उतमता की घोतक या कसौटी है ।

https://www.youtube.com/watch?v=-OpSOAWFemw

न्यायपालिका संविधान की अंतिम मध्यस्थ के रूप में व्याख्या करती है । विधायिका या कार्यपालिका के किसी भी कार्य की छानबीन करके, संविधान के अनुसार यह अनिवार्य है कि उसका प्रहरी हो, अन्यथा, जो संविधान द्वारा उनके लिए निर्धारित अतिरंजित सीमा से, इनको अधिनियमित या कार्यान्वित करने के लिए स्वतंत्र हैं । यह लोगों के मौलिक अधिकारों की रक्षा में एक संरक्षक की तरह काम करता है, जैसा कि संविधान में निहित है, राज्य के किसी भी अंग द्वारा उल्लंघन से है । यह केंद्र और एक राज्य या राज्यों के बीच सत्ता के परस्पर विरोधी अभ्यास को भी संतुलित करता है, जैसा कि उन्हें संविधान द्वारा सौंपा गया है ।

138 thoughts on “Union Government (संघ सरकार) hindi

  1. I’d like to thank you for the efforts you have put in writing this site. I am hoping to view the same high-grade blog posts from you later on as well. In fact, your creative writing abilities has motivated me to get my own, personal site now 😉

  2. The very next time I read a blog, Hopefully it won’t fail me as much as this particular one. After all, Yes, it was my choice to read, nonetheless I genuinely believed you would have something helpful to talk about. All I hear is a bunch of complaining about something that you can fix if you weren’t too busy looking for attention.

  3. Hi there! I could have sworn Iíve been to this web site before but after looking at some of the posts I realized itís new to me. Anyways, Iím certainly delighted I stumbled upon it and Iíll be book-marking it and checking back often!

  4. You are so cool! I do not think I have read something like that before. So wonderful to discover someone with a few original thoughts on this topic. Really.. thanks for starting this up. This web site is something that’s needed on the web, someone with some originality!

  5. Greetings, I do believe your web site might be having browser compatibility issues. Whenever I look at your site in Safari, it looks fine but when opening in Internet Explorer, it’s got some overlapping issues. I simply wanted to provide you with a quick heads up! Besides that, wonderful blog!

  6. Oh my goodness! Awesome article dude! Thank you, However I am experiencing issues with your RSS. I donít understand the reason why I am unable to subscribe to it. Is there anybody else having similar RSS problems? Anyone who knows the solution will you kindly respond? Thanks!!

  7. Hi, I do believe this is an excellent web site. I stumbledupon it 😉 I’m going to come back once again since i have bookmarked it. Money and freedom is the best way to change, may you be rich and continue to guide others.

  8. Oh my goodness! Awesome article dude! Thank you so much, However I am going through troubles with your RSS. I donít know why I cannot subscribe to it. Is there anybody else having similar RSS issues? Anybody who knows the solution can you kindly respond? Thanks!!

  9. After I initially commented I appear to have clicked the -Notify me when new comments are added- checkbox and now each time a comment is added I receive 4 emails with the exact same comment. Perhaps there is a means you can remove me from that service? Many thanks!

  10. This is the right website for anyone who hopes to find out about this topic. You understand a whole lot its almost tough to argue with you (not that I personally will need toÖHaHa). You definitely put a brand new spin on a topic that’s been discussed for ages. Great stuff, just wonderful!

  11. You are so awesome! I do not think I’ve read through a single thing like this before. So great to discover another person with a few unique thoughts on this issue. Really.. thank you for starting this up. This web site is something that is required on the web, someone with some originality!

  12. Oh my goodness! Amazing article dude! Thanks, However I am having difficulties with your RSS. I donít know the reason why I cannot join it. Is there anybody getting similar RSS problems? Anybody who knows the solution will you kindly respond? Thanx!!

  13. Hi there! I could have sworn Iíve been to this site before but after looking at many of the articles I realized itís new to me. Anyways, Iím definitely delighted I discovered it and Iíll be book-marking it and checking back regularly!

  14. If you are a cataract patient who has astigmatism that is affecting the quality of your vision, you have several treatment options, including a LASIK or PRK procedure twelve to twenty four weeks after RLE Cataract surgery propecia success rate 90 day slow release estrogen pellets were implanted subcutaneously two days prior to cell injection 0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *